The Pig and The Sheep | Moral Stories in Hindi

The Pig and The Sheep | Moral Stories in Hindi

Moral Stories in Hindi : एक दिन एक छायावादी ने अपनी भेड़ों को चराने के लिए उस मैदान में एक मोटा सूअर खोज निकाला जहाँ उसकी भेड़ें चरती थीं। The Pig and The Sheep उसने तुरंत ही उस मोटे सूअर को पकड़ लिया, जिसने उसके हाथों पर पड़ते ही उच्च स्वर में चिल्लाया। आप उस बड़े चिल्लाहट को सुनकर सोच सकते हैं कि सूअर को क्रूरता से चोट पहुंच रही है। पर चिल्लाहट और लड़ने की कोशिशों के बावजूद, छायावादी ने अपने बाजू में अपना आकलन दबोच कर बाजार में मांस की दुकान की ओर बढ़ दिया।

मैदान में बसे भेड़ें सूअर के व्यवहार पर बहुत हैरान और मनोरंजित हो गईं और छायावादी और उसके आवागमन के साथी की पीछा करते हुए मैदान के द्वार तक पहुंच गईं।

“तुम ऐसे क्यों चिल्लाते हो?” एक भेड़ ने पूछा। “छायावादी अकेले ही हम में से एक को पकड़ लेता है और हमें बाजार में ले जाता है। पर हम बहुत शरमाएंगे अगर हम उस तरह चिल्लाएं जैसे तुम करते हो।”

“सब तो ठीक है,” सूअर ने चिल्लाकर और उन्होंने एक भयानक लात मारी। “जब वह तुम्हें पकड़ता है, तो वह सिर्फ तुम्हारी ऊन की खातिर होता है। पर उसको मेरी सूअर की मांस की तलाश है!

Best Story : Moral Stories in Hindi | The King and Macaw Parrots

नैतिक: जब खतरा नहीं हो, तो बहादुर बनना आसान होता है। दो विभिन्न परिस्थितियों को समझे बिना उन्हें तुलना न करें।

Frequently Asked Questions (FAQs)

छायावादी ने मैदान में क्या खोजा?

The Pig and The Sheep छायावादी ने उस मैदान में एक मोटे सूअर को खोजा जहाँ उसकी भेड़ें चरती थीं।

सूअर ने छायावादी द्वारा पकड़े जाने पर कैसे प्रतिक्रिया दी?

सूअर ने ऊँचे स्वर में चिल्लाकर और उसके पकड़ने पर बचने की कोशिश की जब छायावादी ने उसे पकड़ लिया।

मैदान में चरती भेड़ियां सूअर के व्यवहार पर कैसे प्रतिक्रिया दी?

मैदान में चरती भेड़ियां सूअर के व्यवहार पर आश्चर्यित और मनोरंजित हो गईं। वे छायावादी और सूअर के पीछे मैदान के द्वार तक चली गईं।

सूअर ने अपनी उच्च स्वर वाली चिल्लाहट की व्याख्या क्यों की?

सूअर ने बताया कि जबकि छायावादी केवल भेड़ों की ऊन की खातिर पकड़ता है, उसे सूअर की मांस की तलाश है, इसीलिए वह चिल्लाकर और विरोध करता है।

कहानी का सिख क्या है?

कहानी का सिख है कि वास्तविक खतरे न होने पर बहादुर दिखना आसान होता है। किसी भी प्रकार की समझ के बिना दो विभिन्न परिस्थितियों की तुलना करनी चाहिए। The Pig and The Sheep

vinodswain.1993@gmail.com

One thought on “The Pig and The Sheep | Moral Stories in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Moral Stories in Hindi For Class 9 The Story of Tenali Raman in Hindi A Thirsty Crow Story moral | प्यासी कौवे की कहानी Greed is Bad Short Story in English Short Story in English