Bond Of Brother And Sister | भाई बहन का प्यार

Bond Of Brother And Sister | भाई बहन का प्यार

Bond Of Brother And Sister : मैं एक अलगाववादी गाँव में पैदा हुआ था, जो एक पहाड़ी पर स्थित था। दिन-रात, मेरे माता-पिता ने पीली सूखी मिट्टी की खेती की और आकाश की ओर उनकी पीठ से जुड़ी रही। एक दिन, मुझे एक रुमाल खरीदना था, जो मेरे आस-पास की सभी लड़कियाँ पहनती थीं। तो मैंने अपने पिता के ड्रॉयर से 50 सेंट चुरालिए। पिता ने चोरी की हुई धन की जानकारी तुरंत पाई।

“कौन ने पैसे चुराए?” उन्होंने मेरे भाई और मुझसे पूछा। Bond Of Brother And Sister मैं चौंक गया, डर से कुछ नहीं बोल पाया। हम दोनों ने किसी भी दोष को स्वीकार नहीं किया, तो उन्होंने कहा, “अच्छा, अगर कोई स्वीकार नहीं करना चाहता, तो तुम्हें दोनों को सजा होगी!” अचानक, मेरे छोटे भाई ने पिता का हाथ पकड़ लिया और कहा, “पापा, मैं ही वह व्यक्ति हूँ जिसने यह किया था!” उसने मेरे लिए दोषी ठहराया और सजा भी बर्दाश्त की।

रात के मध्य में, अचानक, मैंने बड़ी आवाज में चिल्लाया। मेरे छोटे भाई ने अपने छोटे हाथ से मेरा मुंह ढंक दिया और कहा, “बहन, अब और नहीं रोना। सब कुछ हो चुका है।” मैं कभी नहीं भूल सकता जब उसने मुझे सुरक्षित रखने के लिए कैसे अपना बच्चों का भावना दिखाया। उस साल, मेरे छोटे भाई की आयु 8 वर्ष थी और मेरी आयु 11 वर्ष थी। Bond Of Brother And Sister मैं अब भी खुद को नापसंद करता हूँ क्योंकि मेरे पास उस समय की गुत्स नहीं थी कि मैं जो कुछ किया था, उसे स्वीकार कर सकूँ। सालें बीत गईं, लेकिन वह घटना ऐसी लगती थी जैसे वह कल ही हुई हो।

विद्यालय के अंतिम वर्ष

जब मेरे छोटे भाई अपने माध्यमिक विद्यालय के अंतिम वर्ष में थे, उन्हें शहर के केंद्रीय हिस्से में एक उच्च माध्यमिक विद्यालय में दाखिला मिला। उसी समय, मुझे प्रांत में एक विश्वविद्यालय में दाखिला मिला। उस रात, पिता आँगन में खड़े होकर, पैकेट-पैकेट धूम्रपान कर रहे थे। Moral Stories in Hindi For Class 5 मैंने उन्हें माँग करते हुए सुना, “हमारे दोनों बच्चे, उनके अच्छे परिणाम हैं? बहुत अच्छे परिणाम हैं?”

मां ने आंसू पोंछे और आह भरी, “यह सब क्या है? हम कैसे दोनों को वित्त प्रदान कर सकते हैं?” तब मेरे छोटे भाई बाहर निकले, उन्होंने पिता के सामने खड़े होकर कहा, “पापा, मैं अब अपना पढ़ाई जारी नहीं रखना चाहता, मुझे पढ़ाई से काम बन गया है।” पिता गुस्से में आ गए। “तुम्हारा आत्म-संवाद इतना कमजोर क्यों है? चाहे मुझे सड़कों पर पैसे मांगने पड़ें, मैं तुम्हें दोनों की पढ़ाई करवाऊंगा, जब तक तुम दोनों अपनी पढ़ाई पूरी नहीं कर लेते!” और फिर, वह गाँव के हर घर पर पैसे उधार लेने लगे।

मैंने जितनी आहिर्दय सम्भलकर अपने भाई के चेहरे की ओर बढ़ाया और उससे कहा, “एक लड़का अपनी पढ़ाई जारी रखना चाहिए। नहीं तो, वह हमारे साथी होने वाली गरीबी को पार नहीं कर सकेगा।” विपरीत, मैंने यूनिवर्सिटी में अपनी पढ़ाई को आगे नहीं बढ़ाने का निर्णय लिया।

किसी को नहीं पता था कि अगले दिन, सुबह के समय, मेरे छोटे भाई ने कुछ पुराने कपड़े और कुछ सूखे बीन्स के साथ घर छोड़ दिया। उन्होंने मेरी बिस्तर की ओर आकर एक नोट रख दिया, “बहन, यूनिवर्सिटी में प्रवेश करना आसान नहीं है। मैं नौकरी ढूंढने जा रहा हूँ और मैं तुझे पैसे भेजूंगा।” मैंने नोट को अपने बिस्तर पर बैठकर पकड़ा और अपने बेड पर बैठकर रोते रह गया, जब तक मेरी आवाज़ नहीं बदल गई।

पुरे गाँव के पैसों से, और मेरे भाई ने एक निर्माण स्थल पर रेलगाड़ी पर सीमेंट बोतलें उठाकर कमाए पैसों से, अंत में, मैंने विश्वविद्यालय के तीसरे वर्ष में पढ़ाई की थी। उस साल, मेरे भाई की आयु 17 वर्ष थी और मेरी आयु 20 वर्ष थी।

Moral Stories in Hindi For Class 5

एक दिन, जब मैं अपने कमरे में पढ़ रहा था, मेरा रूममेट आया और मुझसे बोला, “बाहर एक गाँववाला आपका इंतजार कर रहा है!” मुझे क्यों कोई गाँववाला ढूंढ रहा होता है? मैं बाहर निकला, और दूर से मेरे छोटे भाई को देखा। उनके सारे शरीर पर मिट्टी, धूल, सीमेंट और रेत थी। मैंने उनसे पूछा, “तुमने रूममेट को क्यों नहीं बताया कि तुम मेरे भाई हो?”

उन्होंने मुस्कराते हुए जवाब दिया, “मेरे रूप को देखो। वो लोग क्या सोचेंगे अगर उन्हें पता चल जाए कि मैं तुम्हारा भाई हूँ? क्या वो तुम्हारे मजाक उड़ाएंगे नहीं?” मुझे बहुत छू जाता है जब मैं सोचता हूँ कि उसने कैसे मेरे लिए अपने बच्चों के भावनाओं को दिखाया। मेरे भाई की आयु, उस समय 20 वर्ष थी और मेरी आयु 23 वर्ष थी।

Best Story : Top 10 Moral Stories in Hindi _ Moral Stories For Kids in Hindi

मेरे विवाह के बाद, मैं शहर में रहने लगा। बहुत बार मेरे पति ने मेरे माता-पिता को हमारे साथ आने की दावत दी, लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि एक बार वे गाँव छोड़ देंगे, तो उन्हें पता नहीं क्या करना होगा। मेरे भाई ने उनके साथ सहमति दी। उन्होंने कहा, “बहन, तुम अपने ससुरालवालों का ध्यान रखो। मैं माँ-पापा का ख्याल रखूंगा यहाँ।”

मेरे पति अपने कारख़ाने के निदेशक बन गए। हमने मेरे भाई से मेंटेनेंस विभाग में प्रबंधक का पद स्वीकार करने की पेशकश की। लेकिन मेरे भाई ने पेशेवर रूप से काम करने की पेशेवर पेशकश को इनकार कर दिया। उन्होंने शुरुआत में एक मरम्मत करने वाले के रूप में काम करने की बाजुबंदी की।

Bond Of Brother And Sister
Bond Of Brother And Sister

एक दिन, मेरे भाई एक सीड़ी की मरम्मत करते समय ऊपरी सीढ़ी पर खड़े थे, जब उन्हें विद्युत आघात लगा, और उन्हें अस्पताल भेज दिया गया। मेरे पति और मैं अस्पताल में उन्हें मिलने गए। उनकी टूटी हुई टांग पर देखकर, मैंने गड़बड़ किया, “तुमने प्रबंधक बनने की पेशेवर पेशकश को क्यों नकार दिया? Moral Stories in Hindi For Class 5 प्रबंधक ऐसी खतरनाक बातें तो नहीं करते। अब तुम मुँहासे में हो – तुम गंभीर चोट सह रहे हो। हमारी बातें क्यों नहीं मानते थे?”

उन्होंने अपने चेहरे पर गंभीर भावना के साथ कहा, “तुम्हारे भाई इन्द्रिया हुए, अब तक डायरेक्टर बन गए हैं। अगर मैं जैसे अशिक्षित व्यक्ति को प्रबंधक बना देते, तो लोग कैसी अफवाहें फैलाते?” मेरे पति की आंखों में आंसू थे, और फिर मैंने कहा, “लेकिन तुमने शिक्षा में कमी तो सिर्फ मेरी वजह से हुई है!”

“तुम पुरानी बातें क्यों याद दिला रही हो?” उन्होंने कहा और फिर मेरा हाथ पकड़ लिया। उस समय, उनकी आयु 26 वर्ष थी और मेरी आयु 29 वर्ष थी। मेरे भाई की शादी गाँव की एक किसान लड़की से हुई थी जब उनकी आयु 30 वर्ष थी। शादी के समारोह में, मास्टर ऑफ सेरेमनी ने उनसे पूछा, “किस व्यक्ति का सम्मान और प्यार आप सबसे अधिक करते हैं?”

बिना कुछ सोचे ही, उन्होंने उत्तर दिया, “मेरी बहन।” Moral Stories in Hindi For Class 5 उन्होंने एक कहानी सुनाई, जिसे मैं याद नहीं कर सकता। “जब मैं प्राथमिक विद्यालय में था, तो विद्यालय दूसरे गाँव में था। हर दिन, मेरी बहन और मैं विद्यालय जाने और घर आने के लिए 2 घंटे तक चलकर जाते थे। एक दिन, मेरी एक दस्ताना खो गई। मेरी बहन ने मुझे उसकी एक दस्ताना दी। वह सिर्फ एक हाथी की मुकुट उतारी और दूर चली गई। हम घर पहुंचे तो उसके हाथ ठंड से कांप रहे थे। उसके चोपस्टिक्स को पकड़ने में उसका हाथ थर-थर कर रहा था। उस दिन से मैंने कसम खाई कि जब तक मैं जीतूं, मैं अपनी बहन का ख्याल रखूंगा और हमेशा उसके साथ अच्छा रहूंगा।”

Best Story : The Pig and The Sheep | Moral Stories in Hindi

तालियों की धारा कमरे में बह गई। सभी मेहमानों का ध्यान मुझ पर आया। मुझे बोलने में कठिनाई हो रही थी, “मेरे जीवन में, सबसे ज्यादा धन्यवाद देने के लिए वो व्यक्ति है, मेरे भाई,” और इस खुशी के मौके पर, भीड़ में, मेरी आँखों से आंसू बह रहे थे।

मोरल: अपने जीवन के हर एक दिन पर उन्हें जो प्यार और देखभाल जताएं जिनसे आप प्यार करते हैं। आपको लग सकता है कि आपने केवल एक छोटी सी क्रिया की है, लेकिन उस किसी के लिए, यह बहुत कुछ हो सकता है। कुछ रिश्ते दीर्घकालिक होते हैं, लेकिन उन्हें प्यार और देखभाल से पोषित किया जाना चाहिए।

Frequently Asked Questions (FAQs)

कहानी का मुख्य संदेश क्या है?

इस कहानी का मुख्य संदेश है कि हमें अपने प्रियजनों के प्रति प्यार और देखभाल करनी चाहिए, चाहे वो छोटी सी क्रिया हो या बड़ी।

बहन और भाई के बीच क्या खास रिश्ता दिखाया गया है?

कहानी में बहन और भाई के प्यार का अद्वितीय रिश्ता दिखाया गया है जिसमें भाई ने हमेशा अपनी बहन की चिंता की है और उसके लिए संकल्प बनाया है कि उसकी देखभाल करेगा।

भाई ने किस प्रकार बहन की मदद की?

भाई ने कहानी में बहन की मदद करते हुए दिखाया है जब उसने बहन की चोरी की हुई पैसों की दोषवार्ती लिया और उसके लिए सजा भी उठाई।

भाई की परिश्रम का जिक्र किया गया है, क्या वह कैसे काम करते थे?

कहानी में भाई ने सीमेंट के बोतलें उठाकर काम करते हुए अपने पैसे कमाए थे, जिससे वह अपनी बहन की पढ़ाई की व्यवस्था कर सके।

कहानी में क्या सिख है?

यह कहानी हमें यह सिखाती है कि प्यार और सहानुभूति से बने रिश्ते हमेशा महत्वपूर्ण होते हैं और हमें अपने प्रियजनों की देखभाल करनी चाहिए, चाहे वो बड़ी या छोटी हो।

इस कहानी से क्या प्रेरणा मिल सकती है?

इस कहानी से हमें यह प्रेरणा मिल सकती है कि हमें अपने प्रियजनों के प्रति प्यार और सहानुभूति दिखानी चाहिए और हमेशा उनके साथ खड़े रहने की कोशिश करनी चाहिए, चाहे जीवन में कितनी भी मुश्किलें क्यों न आएं।

vinodswain.1993@gmail.com

One thought on “Bond Of Brother And Sister | भाई बहन का प्यार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Moral Stories in Hindi For Class 9 The Story of Tenali Raman in Hindi A Thirsty Crow Story moral | प्यासी कौवे की कहानी Greed is Bad Short Story in English Short Story in English